Top 50+ Best Radha Soami Status in Hindi 2021

Top 50+ Best Radha Soami Status in Hindi 2021

I hope you are searching for Top 50+ Best Radha Soami Status in Hindi 2021. Here I am going to share some Radha Soami Status in Hindi 2021. You can share this Radha Soami Status With your friends, family, and relatives on WhatsApp, Facebook, and Instagram. This Radha Soami status will help you to feel fabulous.

Radha Soami Status in Hindi

Let’s know about them.

Top 50+ Best Radha Soami Status in Hindi 2021

  1. जब से मैं पाये गुरु प्यारे के दरशन । हिरदे में रही प्रीत समाय । मन अति अकुलाय ।।
  2. राधास्वामी मेहर से घट पट खोला । धुन संग सूरत अधर चढ़ाय । दई घर पहुँचाय ।।
  3. कर्ता करे न कर सकै, गुरु करै सो होय। तीन लोक नौ खंड में, सतगुरु से बड़ा न कोय…✍️
  4. अच्छा लगता है मुझे उन लोगों को सुबह की राधा स्वामी जी करना। जो मेरे सामने न होते हुए भी मेरे दिल के बहुत पास होने का एहसास दिलाते है 🙏 *RADHA SOAMI JI 🙏
  5. !!वो जो करता है सही करता है,_जिसमे मेरी ख़ुशी हो वही करता है,_भरोसा है मुझे मेरे Satgure पे,_वो हर क़दम पे मुझे अपने साथ रखता है ??
  6. कभी भी अपने ऊपर से Visvas मत खोओ,_तुम इस विश्व में कुछ भी कर सकते हो।
  7. तेरा दीदार बाबाजी बड़ा ही जरूरी है, सुख मिल जांदा जड़ो पैंदी है तेरे, ते नज़र बीमारा न सफ्फा मिल जांदी है|
  8. सतगुरु को मांग ले मेरे प्यारे, उम्र भर का सहारा मिलेगा, सिर्फ इनके सरन में ही हमको उम्र बार गुजरा मिलेगा, जितना दो हाथो से ले सकोगे देने वाले की लाखो बाहें, इनका दामन पकड़ कर तो देखो खुशनुमा सा नजारा मिलेगा| Radha Soami Status in Hindi
  9. मै रोज गुनाह करता हूँ, वो रोज बक्श देता है, मै आदत से मजबूर हूँ, वो रहमत से मशहूर है|
  10. कोई और मुझे अब क्या देगा, तेरे दर से जो मैंने पाया है, धन दौलत चरणों की दासी, संसार भी झूठी माया है|
  11. जीवन न तो भविष्य में है, न अतीत में है, जीवन तो बस इस पल में है।
  12. जन्म लेने वाले के लिए मृत्यु उतनी ही निश्चित है, जितना कि मरने वाले के लिए जन्म लेना। इसलिए जो अपरिहार्य है, उस पर शोक नही करना चाहिए।
  13. मैं सभी प्राणियों को एकसमान रूप से देखता हूं, मेरे लिए ना कोई कम प्रिय है ना ही ज्यादा, लेकिन जो मनुष्य मेरी प्रेमपूर्वक आराधना करते है, वो मेरे भीतर रहते है और में उनके जीवन में आता हूं।
  14. फल की अभिलाषा छोड़कर कर्म करने वाला पुरुष ही अपने जीवन को सफल बनाता है।
  15. मनुष्य को परिणाम की चिंता किए बिना, लोभ- लालच बिना एवं निस्वार्थ और निष्पक्ष होकर अपने कर्तव्यों का पालन करना चाहिए।
  16. मनुष्य को अपने कर्मों के संभावित परिणामों से प्राप्त होने वाली विजय या पराजय, लाभ या हानि, प्रसन्नता या दुःख इत्यादि के बारे में सोच कर चिंता से ग्रसित नहीं होना चाहिए।
  17. सदैव संदेह करने वाले व्यक्ति के लिए प्रसन्नता न इस लोक में है और न ही परलोक में।
  18. मनुष्य का मन इन्द्रियों के चक्रव्यूह के कारण भ्रमित रहता है। जो वासना, लालच, आलस्य जैसी बुरी आदतों से ग्रसित हो जाता है। इसलिए मनुष्य का अपने मन एवं आत्मा पर पूर्ण नियंत्रण होना चाहिए।
  19. श्रेष्ठ पुरुष को सदैव अपने पद और गरिमा के अनुरूप कार्य करने चाहिए। क्योंकि श्रेष्ठ पुरुष जैसा व्यवहार करेंगे, तो इन्हीं आदर्शों के अनुरूप सामान्य पुरुष भी वैसा ही व्यवहार करेंगे।
  20. जो मनुष्य जिस प्रकार से ईश्वर का स्मरण करता है उसी के अनुसार ईश्वर उसे फल देते हैं। कंस ने श्रीकृष्ण को सदैव मृत्यु के लिए स्मरण किया तो श्रीकृष्ण ने भी कंस को मृत्यु प्रदान की। अतः परमात्मा को उसी रूप में स्मरण करना चाहिए जिस रूप में मानव उन्हें पाना चाहता है।
  21. मन अशांत है और इसे नियंत्रित करना कठिन है, लेकिन अभ्यास से इसे वश में किया जा सकता है।
  22. वह व्यक्ति जो सभी इच्छाएं त्याग देता है और ‘में’ और ‘मेरा’ की लालसा और भावना से मुक्त हो जाता है, उसे अपार शांति की प्राप्ति होती है।
  23. सदैव संदेह करने वाले व्यक्ति के लिए प्रसन्नता ना इस लोक में है ना ही कहीं और। Radha Soami Status in Hindi
  24. तुम्हारा क्या गया जो तुम रोते हो, तुम क्या लाए थे जो तुमने खो दिया, तुमने क्या पैदा किया था जो नष्ट हो गया, तुमने जो लिया यहीं से लिया, जो दिया यहीं पर दिया, जो आज तुम्हारा है, कल किसी और का होगा। क्योंकि परिवर्तन ही संसार का नियम है।
  25. तुम क्यों व्यर्थ में चिंता करते हो ? तुम क्यों भयभीत होते हो ? कौन तुम्हे मार सकता है ? आत्मा न कभी जन्म लेती है और न ही इसे कोई मार सकता है, ये ही जीवन का अंतिम सत्य है।
  26. इतिहास कहता है कि कल सुख था, विज्ञान कहता है कि कल सुख होगा, लेकिन धर्म कहता है, अगर मन सच्चा और दिल अच्छा हो तो हर रोज सुख होगा।
  27. जो व्यवहार आपको दूसरों से पसंद ना हो, ऐसा व्यवहार आप दूसरों के साथ भी ना करें।
  28. वह व्यक्ति जो अपनी मृत्यु के समय मुझे याद करते हुए अपना शरीर त्यागता है, वह मेरे धाम को प्राप्त होता है और इसमें कोई शंशय नही है।
  29. आनंद अपने अंदर ही निवास करता है परंतु मनुष्य उसे स्त्री में,घर में, या बाहर के सुखों में खोज रहा है।
  30. वासना पुन जन्म का कारण बनती है। इंद्रियो के अधीन होने से मनुष्य के जीवन में विकार आता है।
  31. संयम, सदाचार, स्नेह एवं सेवा ये गुण सत्संग के बिना नही आते।
  32. जो हुआ अच्छे के लिए हुआ जो हो रहा है वह भी अच्छे के लिए हो रहा है जो होगा वह भी अच्छे के लिए ही होगा।
  33. परिवर्तन  संसार का नियम है समय के साथ संसार में हर चीज़ परिवर्तन के नियम का पालन करती है। 
  34.  सत्संग की महिमा महान है – वह दुख घटाता है और पापों को काटता है और जीवन को सुधारता है ||
  35. ध्यान से मन एक दीपक की ज्योति समान अटूट हो जाता है अपने आप को मज़बूत करने के लिए अपने आप को जानना अति आवश्यक है।
  36. मनुष्य विश्वास से ही बनता है आप जैसा विश्वास रखते है वैसे ही बन जाते है सुख, ख़ुशी और भाग्य का निर्माण मनुष्य के आंतरिक विश्वास से ही होता है।
  37. कर्म करो फल की इच्छा मत करो अपनी ख़ुशी को केवल अस्थायी वस्तुओं पर निर्धारित ना करे सच्चा सुख अच्छे कर्मों के माध्यम से जीवन को सुखी बना देता है।
  38. यह संसार हर छड़ बदल रहा है और बदलने वाली वस्तु असत्य होती है . Radha Soami Status in Hindi
  39. जो भी नए कर्म और उनके संस्कार बनते है वह सब केवल मनुष्य जन्म में ही बनते है ,पशु पक्षी आदि योनियों में नहीं , क्यों की वह योनियां कर्मफल भोगने के लिए ही मिलती हैं.
  40. जो होने वाला है वो होकर ही रहता है और जो नहीं होने वाला वह कभी नहीं होता . ऐसा निश्चय जिनकी बुद्धि में होता है उन्हें चिंता कभी नहीं सताती।
  41. शास्त्र, वर्ण , आश्रम की मर्यादा के अनुसार जो काम किया जाता है वह ” कार्य ” है और शास्त्र आदि की मर्यादा से विरुद्ध जो काम किया जाता है वह ” अकार्य ” है .
  42. उत्पन्न होने वाली वस्तु तो स्वतः ही मिटती है , जो वस्तु उत्पन्न नहीं होती वह कभी नहीं मिटती |आत्मा अजर अमर है | शरीर नाशवान है |
  43. मन , वाणी और कर्म से किसी को भी दुःख न देना , प्रिय भाषण , अपना बुरा करने वाले पर भी क्रोध न करना , चित की चंचलता का आभाव.
  44. जो  दान बिना  सत्कार के,कुपात्र को  दिया जाता  है वह तमस दान कहलाता  है.
  45. वह जो सभी इच्छाएं त्याग देता है और “मैं ” और “मेरा ” की लालसा और भावना से मुक्त हो जाता है उसे शान्ति प्राप्त होती है।
  46. मनुष्य को जीवन की चुनौतियों से भागना नहीं चाहिए और न ही भाग्य और ईश्वर की इच्छा जैसे बहानों का प्रयोग करना चाहिए।
  47. इतिहास कहता है कि कल सुख था, विज्ञान कहता है कि कल सुख होगा, लेकिन धर्म कहता है कि, अगर मन सच्चा और दिल अच्छा हो तो हर रोज सुख होगा।
  48. कोई भी इंसान जन्म से नहीं बल्कि अपने कर्मो से महान बनता है।
  49. अच्छे कर्म करने के बावजूद भी लोग केवल आपकी बुराइयाँ ही याद रखेंगे, इसलिए लोग क्या कहते हैं इस पर ध्यान मत दो, तुम अपना कर्म करते रहो।
  50. मनुष्य को अपने धर्म के अनुसार कर्म करना चाहिए।जैसे – विद्यार्थी का धर्म विद्या प्राप्त करना, सैनिक का धर्म देश की रक्षा करना आदि। जिस मानव का जो कर्तव्य है उसे वह कर्तव्य पूर्ण करना चाहिए।

Conclusion

Finally, I hope you got Top 50+ Best Radha Soami Status in Hindi 2021. Now you can share these Radha Soami Status with your friends, family, and realtives on WhatsApp, Facebook, and Instagram. Thank you for reading this article till the end.

 

1 thought on “Top 50+ Best Radha Soami Status in Hindi 2021”

Leave a Comment